चंद लहरें

Just another Jagranjunction Blogs weblog

122 Posts

338 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 21361 postid : 1361743

इतिहास तो इतिहास है

Posted On: 18 Oct, 2017 Hindi Sahitya में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इतिहास तो इतिहास है
हम मेट नहीं सकते हैं उसे
वह काल पृष्ठ पर लिखा हुआ
कालिमा भरा या स्वर्णिम हो
वहकाल को भी स्वीकार्य है
इतिहास तो इतिहास है।
——-
यह राष्ट्रपटल की काल कथा
कितने इसमें जन्मे पनपे,
कितनो ने अपनी कथा लिखी
यह गाथा विजय पराजय की
वीरत्व और कायरता की
यह कालजनित उपहास है,
इतिहास तो इतिहास है।
——–
क्यों हमने संप्रभुता खोयी
खोयी क्यों निज एकता कभी
क्यो रखने दिया कदम उनको
अपने इस पावन धरती पर
अपनी कायरता का भीतो
यह लिखा हुआ इतिहास है
इतिहास तो इतिहास है।
——-
पन्नो पर जो है टँका हुआ
मानस को ज्योतित करता है
जीवन को सीख सदा देता
खलनायक पर आक्रोश उचित
किन्तु गर पन्ना एक फटे ,
इतिहास अधूरारह जाता
वह अमिट रेख समय की है
इतिहास तो इतिहास है।
——-
क्या उसे मिटा भर देने से
वह काल कभी मिट जाएगा?
स्मृतियों मेंरहना है उसे,
जीवन लांक्षित था जिससे हुआ
लांक्षित जीवन के हिस्सों से
कोई कितनों को काटेगा
इतिहास तो इतिहास है,
पन्नो पर वह तो दीखेगा।
———
माना कि दर्पण मे वह कुछ
अपनी अक्षमता दिखलाता
पर अक्षम ही हम क्यों थे कभी
यह प्रश्न अनुत्तरित सा रहता
——
अब आज हमारा पौरुष गर
इस कालपृष्ठ पर अंकित हो
पन्ना वह भी तो सुरक्षित हो
इतिहास सबक लेने को है
मेटे न किसी पन्ने को कोई
इतिहास तो इतिहास है।

आशा सहाय (पूर्व लिखित कविता –संदर्भ आज का)

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
October 26, 2017

 प्रिय आदरणीय आशा जी अन्य लेखों के समान ही उत्तम लेख दुःख होता है जब ताजमहल पर भी हमारे अधकचरे नेता राजनीती करते हैं आपके लेख पर प्रतिक्रिया नहीं जा रही

ashasahay के द्वारा
October 26, 2017

नमस्कार डॉ शोभा जी,बहुत दिनों से आपको ढूंढ नहीं पा रही।टिप्पणी के लिए धन्यवाद। ये लोग सीमाएँ भूल रहेहैं। कहीं ऐसा न हो कि विपरीत प्रभाव पड़ने लगे। टिय्पणियों के नही जाने का रोग पुराना हो गया है। मैंने भी कई जगहें प्रयत्न करके देख लिए हैं। पुनः आभार।

Shobha के द्वारा
November 4, 2017

प्रिय लीला जी आपके लेख यह आत्मघाती वक्तव्य पर प्रतिक्रिया नहीं जा रही है कारण कम्प्यूटर की गलती लेख पढ़ कर सराहना कर सकते हैं परन्तु आप तक अपने विचार नहीं पहुंचा सकते 60,000 Posts 60736 comments

ashasahay के द्वारा
November 5, 2017

धन्यवााद डॉ शोभा जी , मैं भी प्रतिक्रियाएँ व्यक्त कररने में इसीलिए असमर्थ हो जाती हूँ।अभी आपको बेस्ट ब्लॉगर का सम्मान मिला है,देखकर खुशी हुई। बहुत ज्ञानवर्धक लेख है आपका। बहुत बधाई।


topic of the week



latest from jagran