चंद लहरें

Just another Jagranjunction Blogs weblog

130 Posts

347 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 21361 postid : 1369131

लौट आओ,

Posted On: 20 Nov, 2017 Hindi Sahitya में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

लौट आओ
हाथ की हँसिया पटक दो
बदल न जाए कही इतिहास
था जो
शौर्य भरा –
जौहर की ज्वाला से धधकता
चूमता आसमान
स्वर्ण सा जगमग
सोलह हजार नारियोंसे सजा
आत्मबलि को तत्पर
अक्षम संघर्ष ,विवशता
अमिट कहानी
बन नहीं सकीं जो
झाँसी की रानी ,
बाधी थी पीठ पर जिसने
अपनी एकमात्र सन्तान
बेखबर कि –
कहीं बन्दूक की गोलियाँ
और तीप के गोले
छीन नले उसे
उससे।
देश के लिए दिए थे प्राण।
किए थे दो दो हाथ
फिरंगियों से खुले मैदान में निर्भीक।
यह तो,
एक प्रेम कथा
बचा लाए प्रेमी को ,नृप को।
गोरा बादल की बलि शौर्य कथा
छुड़ा लाए
शत्रु की दुर्लंघ्य दीवारों के भीतर से
पर नहीं कर सके ऱक्षा अन्ततः उनकी
स्वयं की ।
जो हो कारण चाहे
पराक्रम की कथा सही
जौहर की व्यथा सही
दे दी आहुति निज की ही
अग्नि यज्ञ में।
आज
तुम्हारे कटार
-शीश लेने को छटपट
म्यान से झाँकती तुम्हारी तलवार
उस चित्रपट की
चित्रांगना पद्मावती का
सुनो,
कहीं अमर नकर दे उसे
इतिहास के पन्ने मे
जिसमे तुम जीना चाहते हो
इतिहास कहीं बोल न दे मुखर हो—
–थी एक नाट्यबाला
अभिनय निपुण
कहीं अधिक सुष्ठ, सुन्दर प्रत्यक्ष
मनोहर भी कल्पनातीत
शौर्य गाथा के साज से सज्जित
उससे भी
जिसे अमर करदिया था अग्नि ने
पवित्र।
पर कहीं
आधुनिका
यह नाट्यबाला
जी नजाए इतिहास में
कहीं हो न जाए विस्मृत पुरातन
इस आत्मबलि की आग में।
जी न जाए कल्पना नवीन की
बलि अनुपम।
फिर क्या करोगे?
किस इतिहास पर मरोगे।
कैसे बचेगी शान आन और बान?
लौट आओ
रख दो हाथ की हँसिया कटार, कृपाण।

आशा सहाय

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
November 20, 2017

प्रिय आशाजी बहुत सुंदर भावनाओं का उदगार अति सुंदर

Shobha के द्वारा
November 20, 2017

प्रिय आदरणीय आशा जी लेख इतिहास और पद्मावती पर प्रतिक्रिया नहीं जा रहीं है आमिर खुसरो और जियाउद्दीन बर्नी उस समय के इतिहास कार हैं उन्होंने चित्तोड़ के युद्ध पर लिखा है आमिर खुसरो के अनुसार रोह तीस हजार से अधिक राजपूत मात्रभूमी पर बलिदान दे रहे थे अंत में पद्मिनी ने अन्य राजपूतानियों ने जौहर किया

ashasahay के द्वारा
November 20, 2017

बहुत बहुत धन्यवादडॉ शोभा जी।बहुत प्रयत्न कर आपने बहुमूल्य टिप्पणी की है।पद्ममििनी का जौहर विवादास्पद नहीं है। प्रश्न है कि निर्देशक ने कथा अगर जायसी के पद्मावत से ली है तो कथा के बहुत से अंश काल्पनिक और एक विशेष विचारधारा से प्रेरित हैं। अतः कथा को सुन्दर बनाए रखने के लिये उसके कल्पना तत्व को भी प््रश्रय देना बहुत अनुचित नहीं। ऐसा मेरा मानना है। वैसे भँसाली जी ने इसे रिलीज होने को स्वयं ही स्थगित किया है। शान्ति बनाए रखने की दृष्टि से यह उचित कदम है।

ashasahay के द्वारा
November 20, 2017

बहुत धन्यवा द। मुझे तो मेरा यह ब्लॉग अथवा इतिहा स और पद्मावती ढूंढे नहीं मिल रहा। पता नहीं कहाँ गड़बड़ी है।


topic of the week



latest from jagran